October 16, 2021

DR NAGENDER YADAV

INDIA FIRST VET YOUTUBER

पक्षियो में शीप की बीमारी का होना ? CHRONIC RESPIRATORY DISEASE IN BIRDS

CHRONIC RESPIRTORY DISEASE IN BIRDS? यह बीमारी सामान्यत सभी पक्षियों में पायी जाती है जैसे की कबूतर , मुर्गी, बजरी, COCKTAIL , LOVE BIRDS , PHEASANTS , PARROTS .

SYMPTOMS – लक्षण 

  • पक्षी अचानक से बिना किसी कारण के खाना पीना छोड देता है
  •  एक कोने में दुबक कर बैठ जाता है
  •  पक्षी का शरीर फूल जाता है
  •  पक्षी हरे रंग की पतली बीटे करने लगता है
  •  किसी CHEMICAL के संपर्क में आने से भी इस प्रकार के लक्षण आ जाते है

DIAGNOSIS – पहचान –

  • लक्षण के आधार पर
  • पक्षी को यदि आप हाथ में लेकर उसकी BREAST BONE को देखेगे तो वह पर आपको केवल BONES दिखाई देगी
  • पक्षी के पुरे शरीर की चर्बी खत्म होनी शुरू हो जाती है
  • पक्षी मुह खोल के जोर – जोर से लम्बे सांसे लेना शुरू कर देता है
  • पक्षी लड़खड़ाने लगता है
  • पक्षी छींकने लगता है
  • गले से COUGH निकलने लगता है
  • पक्षी का नाक सुख जाता है

बचाव के उपाये —

पक्षियों को महीने एक बार पेट के कीड़ो की दवा चाहिए. पक्षियों को मिटटी के बर्तन में पानी नही देना चाहिए. STAINLESS STEEL के बर्तन में पानी रखना चाहिए CALCIUM और LIVER TONIC पानी में मिला कर देना चाहिए BROAD SPECTRUM ANTIBIOTIC – का COURSE महीने में एक बार जरूर करना चाहिए पिंजरे में पक्षियों की संख्या का ध्यान रखना चाहिए पक्षी के शरीर के आकार के अनुसार ही पिंजरे का चुनाव करना चाहिए. पक्षी के पिंजरे के रखने के स्थान का ही सही चुनाव करना चाहिए ताकि आपका पक्षी बाहरी पक्षियों से सुरक्षित रहे. किसी नए पालतू पक्षी को अपने पुराने पक्षियों के साथ रखना नही चाहिए क्योकि हो सकता वो किसी बीमारी से ग्रषित हो और आपके सभी पक्षियों वो बीमारी फ़ैला सकता है और अधिक जानकारी के लिए अपने नजदीकी पक्षी चिकित्सिक से सम्पर्क करे।