October 16, 2021

DR NAGENDER YADAV

INDIA FIRST VET YOUTUBER

पक्षिओ के जोड़ो में दर्द का उपचार कैसे करे ?

पक्षिओ की मास पेशियों व् जोड़ो में होने वाला दर्द जिसे gout भी कहते है पक्षी लंगड़ा कर चलता है और पैरो में सूजन आ जाती है इस बीमारी में पक्षी के इंटरनल अंग प्रभावित होते है इसे visceral gout बोलते है ,सबसे ज्यादा पक्षियों में जो सूजन देखने को मिलती है इसमें पक्षी के ligament /tendon में चोट के कारण होती है ,पक्षिओ के पैरो में गाठे हो जाती और गाठे को दबाकर देखोगे तो गरम महसूस होगी ,पक्षी ज्यादातर प्लेन जगह पर बैठना पसंद करता है ,चलते हुए लंगड़ा कर चलता है पक्षी तनाव में रहना शुरू कर देता है ,हरे पतले रंग की बीट करना शुरू कर देता है पंखो की चमक ख़तम हो जाती है नर पक्षी में ये समस्या ज्यादा देखने को मिलती है

जोड़ो के दर्द का कारण क्या है ?

इसका मुख्या कारन जब पक्षी की किडनी में कोई समस्या होती है तो पक्षी के शरीर में जोड़ो में यूरिक एसिड डिपाजिट होना शुरू हो जाता है किडनी के डैमेज होने के कई कारन हो सकते है जैसे पक्षी के भोजन में कैल्सियन व विटामिन् डी 3 की मात्रा अधिक देना व फॉस्फोरस की मात्रा काम देना ,पक्षी के भोजन में नमक ज्यादा देना ,खाने में प्रोटीन की मात्रा ३० प्रतिशत से अधिक देना ,पीने का पानी कम मात्रा में देना ,पीने के पानी में मिनरल की मात्रा ज्यादा देना ,पक्षी के द्वारा किसी विषैले पदार्थ का लेना

जोड़ो के दर्द का इलाज कैसे करे 

  • पक्षी को पीने के लिये ज्यादा पानी देना इससे पक्षी के शरीर में पानी की कमी नहीं होगी
  • डॉक्टर के परामर्श अनुसार ऐसी दवा का प्रयोग करे जो पेशाब में यूरिक एसिड की मात्रा को काम करे
  • पक्षी को भोजन में नमक न दे
  • पक्षी के भोजन में फॉस्फोरस की मात्रा बढ़ा दे
  • पक्षी को संतुलित भोजन दे
  • पक्षी के भोजन में प्रोटीन ,कैल्शियम व विटामिन डी 3 की मात्रा कम कर दे
  • पक्षी के भोजन में विटामिन k देने से भी इस बीमारी को ठीक करने में काफी मदद मिलती है
  • और अधिक जानकारी के लिये आप हमारे youtube channel पर वीडियो